Tech

Exports jump to USD 30.21 bn in Apr; trade deficit at USD 15.24 bn | अप्रैल में देश का निर्यात बढ़कर 2.23 लाख करोड़ रुपए पर पहुंचा, पिछले साल के मुकाबले 3 गुना ग्रोथ


Advertisements से है परेशान? बिना Advertisements खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • अप्रैल 2021 में कुल 3.36 लाख करोड़ रुपए का आयात हुआ
  • कोरोना के कारण पिछले साल लॉकडाउन में बीता था अप्रैल महीना

अप्रैल में देश से निर्यात में भारी बढ़ोतरी हुई है। वाणिज्य मंत्रालय की ओर से रविवार को जारी प्रारंभिक डाटा के मुताबिक, अप्रैल में देश का कुल निर्यात 30.21 बिलियन डॉलर करीब 2.23 लाख करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले की समान अवधि के 10.17 बिलियन डॉलर करीब 75 हजार करोड़ रुपए के निर्यात के मुकाबले इसमें 3 गुना की ग्रोथ रही है।

3.36 लाख करोड़ रुपए का आयात

निर्यात की तर्ज पर अप्रैल में आयात में भी भारी बढ़ोतरी हुई है। अप्रैल में देश का कुल आयात 45.45 बिलियन डॉलर करीब 3.36 लाख करोड़ रुपए रहा है। पिछले साल अप्रैल में 17.09 बिलियन डॉलर करीब 1.26 लाख करोड़ रुपए का आयात हुआ था। मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि अप्रैल में भारत शुद्ध रूप से आयातक रहा है। अप्रैल में देश का व्यापार घाटा 15.24 बिलियन डॉलर करीब 1.12 लाख करोड़ रुपए रहा है। मंत्रालय के मुताबिक, अप्रैल में व्यापार घाटा 120.34% रहा है। अप्रैल 2020 में देश का व्यापार घाटा 6.92 बिलियन डॉलर करीब 51 हजार करोड़ रुपए रहा था।

पिछले साल लॉकडाउन के कारण घटा था निर्यात

पिछले साल पूरा अप्रैल महीना कोविड-19 के कारण लगाए गए लॉकडाउन में बीता था। इस कारण निर्यात में 60.28% की गिरावट रही थी। हालांकि, इस साल मार्च में निर्यात में 60.29% की ग्रोथ रही थी। मार्च 2021 में 34.45 बिलियन डॉलर करीब 2.55 लाख करोड़ रुपए का निर्यात हुआ था। अप्रैल 2021 में तेल आयात 10.8 बिलियन डॉलर करीब 80 हजार करोड़ रुपए रहा था। एक साल पहले समान अवधि में 4.65 बिलियन डॉलर करीब 34 हजार करोड़ रुपए के तेल का आयात हुआ था।

अप्रैल में इन कमोडिटी के निर्यात में ग्रोथ रही

जेम्स एंड ज्वैलरी, जूट, कारपेट, हैंडीक्राफ्ट, लैदर, इलेक्ट्ऱॉनिक गुड्स, ऑयल मील्स, काजू, इंजीनियरिंग, पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स, मरीन प्रोडक्ट्स और कैमिकल।

भविष्य में घट सकता है कोल इंपोर्ट

आने वाले महीनों में देश में कोल इंपोर्ट में कमी आ सकती है। इसके पीछे विभिन्न कारण हैं। इसमें कोविड का माहौल, कोयले का ज्यादा स्टॉक और अंतरराष्ट्रीय बाजार में ऊंची कीमतें शामिल हैं। mjunction की एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। mjunction टाटा स्टील और SAIL की संयुक्त बी-2-बी ई-कॉमर्स कंपनी है। यह कोल और स्टील से जुड़ी रिसर्च रिपोर्ट जारी करती है।

वित्त वर्ष 2021 में घटा कोल इंपोर्ट

mjunction के प्रारंभिक डाटा के मुताबिक, वित्त वर्ष 2021 में कोल इंपोर्ट में 12.62% की गिरावट रही है। वित्त वर्ष 2021 में कुल 215.92 मिलियन टन कोयले का इंपोर्ट हुआ है। जबकि वित्त वर्ष 2020 में 247.10 मिलियन टन कोयले का इंपोर्ट हुआ था। बंदरगाहों और शिपिंग कंपनियों से मिली रिपोर्ट के आधार पर यह डाटा जारी किया गया है।

खबरें और भी हैं…

Join Our Telegram Channel Watch Movies Online

Socially Keeda

Socially Keeda, the pioneer of news sources in India operates under the philosophy of keeping its readers informed. SociallyKeeda.com tells the story of India and it offers fresh, compelling content that’s useful and informative for its readers.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker